ई-फसल आधारित स्मार्ट फार्मिंग सुविधा का शुभारंभ

16 जून, 2022, तिरुवनंतपुरम

श्री पी. प्रसाद, कृषि विकास और किसान कल्याण मंत्री, केरल सरकार ने भाकृअनुप-केंद्रीय कंद फसल अनुसंधान संस्थान में तिरुवनंतपुरम, केरल आज यहां ई-फसल आधारित स्मार्ट फर्टिगेशन सुविधा शुरू करके "ई-फसल का उपयोग करके स्मार्ट खेती" पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया। मंत्री ने सुविधा का शुभारंभ करते हुए, किसानों को स्मार्ट बनने में सक्षम बनाने के लिए उन्हें स्मार्ट सेवाएं प्रदान करने के महत्व को रेखांकित किया। श्री प्रसाद ने किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए सरकार और समाज को हस्तक्षेप करने की आवश्यकता पर बल दिया।

डॉ. संतोष मित्रा, प्रधान वैज्ञानिक, भाकृअनुप-सीटीसीआरआई, तिरुवनंतपुरम, केरल द्वारा इलेक्ट्रॉनिक क्रॉप (ई-क्रॉप) किसान की आय बढ़ाने के लिए आईसीटी जैसी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) तकनीक पर आधारित इंटरनेट ऑफ  थिंग्स (IoT) डिवाइस है और यह अपनी तरह का पहला उपकरण है जिसे 2014 में भाकृअनुप में विकसित किया गया था।

e-Crop based Smart Farming Facility launched  e-Crop based Smart Farming Facility launched

विशिष्ट अतिथि, श्रीमती. एल.आर. आरती, आई.ई.एस., केरल राज्य बागवानी मिशन ने कृषि में नवीनतम कृत्रिम बुद्धिमत्ता-आधारित प्रौद्योगिकी विकसित करने में भाकृअनुप-सीटीसीआरआई, तिरुवनंतपुरम के साथ जुड़ने पर प्रसन्नता व्यक्त की। श्रीमती आरती ने ई-फसल की एसएमएस (SMS) सेवाओं का भी शुभारंभ किया और इस अवसर के दौरान "कसावा में मीली बग्स का एकीकृत प्रबंधन" पर एक प्रकाशन जारी किया।

डॉ विक्रमादित्य पांडे, एडीजी (बागवानी विज्ञान), भाकृअनुप ने अपने संबोधन में प्रौद्योगिकी के प्रभावी हस्तांतरण में मानव स्पर्श की आवश्यकता पर बल दिया।

इससे पूर्व, डॉ. एम.एन. शीला, निदेशक, भाकृअनुप-सीटीसीआरआई, तिरुवनंतपुरम ने स्वागत संबोधन में विकसित प्रौद्योगिकियों और संस्थान द्वारा क्रियान्वित योजनाओं को रेखांकित किया।

इस कार्यक्रम में नेदुमंगडु ब्लॉक, अरुविक्कारा, पनवूर, काराकुलम, वेम्बयम और अनाद की 5 पंचायतों के लगभग 100 किसानों को ई-फसल आधारित स्मार्ट फार्मिंग सुविधा में प्रशिक्षित किया गया था।

(स्रोत: भाकृअनुप-केंद्रीय कंद फसल अनुसंधान संस्थानतिरुवनंतपुरमकेरल)