भाकृअनुप-आईआईएसडब्ल्यूसी, देहरादून ने किया दो समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर

26 जुलाई, 2021, देहरादून

भाकृअनुप-भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान, देहरादून, उत्तराखंड ने आज दो समझौता ज्ञापनों (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया।

‘राष्ट्रीय राजमार्ग पर धूल और कटाव/भू-क्षरण नियंत्रण के लिए वनस्पति आधारित प्रौद्योगिकियों के विकास’ के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) नई दिल्ली के साथ पहला समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया।

ICAR-IISWC, Dehradun inks two MoUs

डॉ. एम. मधु, निदेशक, भाकृअनुप-आईआईएसडब्ल्यूसी, देहरादून, उत्तराखंड और श्री अजय सभरवाल, महाप्रबंधक (तकनीकी), एनएचएआई, नई दिल्ली ने अपने-अपने संगठनों की ओर से समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

निदेशक, भाकृअनुप-आईआईएसडब्ल्यूसी, देहरादून द्वारा 'राष्ट्रीय जल विज्ञान परियोजना (एनएचपी) के तहत वाष्पीकरण और मिट्टी की नमी उत्पादों के सत्यापन के लिए क्षेत्र उपकरण की स्थापना' के लिए राष्ट्रीय सुदूर संवेदन केंद्र, इसरो, डीओएस, बालानगर, हैदराबाद के साथ दूसरे समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

भाकृअनुप-आईआईएसडब्ल्यूसी, देहरादून के डॉ. एन. के. शर्मा, डॉ. एम. मुरुगनंदम, डॉ. राजेश कौशल और डॉ. गोपाल कुमार और श्री प्रवीण कटियार, तकनीकी अधिकारी, क्षेत्रीय कार्यालय, देहरादून, उत्तराखंड भी इस मौके पर मौजूद रहे।

(स्रोत: भाकृअनुप-भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान, देहरादून, उत्तराखंड)