श्री कैलाश चौधरी ने किया भा.कृ.अनु.प.-भा.कृ.अनु.सं. का दौरा

12 सितंबर, 2020, नई दिल्ली

श्री कैलाश चौधरी, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री ने आज भा.कृ.अनु.प.-भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली का दौरा किया।

Shri Kailash Choudhary visits ICAR-IARI  Shri Kailash Choudhary visits ICAR-IARI  Shri Kailash Choudhary visits ICAR-IARI

इस दौरान मंत्री ने संस्थान के वैज्ञानिकों के साथ संवाद और चर्चा किया। बाजरा के परीक्षणों और प्रदर्शनों के दौरान विभिन्न नए बाजरा संकरों के प्रदर्शन की सराहना करते हुए श्री चौधरी ने खाद्य गुणवत्ता और जलवायु अनुकूलन को बनाए रखने के लिए विभिन्न भू-प्रजाति के सुधार पर अनुसंधान करने का आग्रह किया। मंत्री ने गुणवत्ता में सुधार लाने और कुपोषण की समस्या से निपटने के लिए विभिन्न उन्नत वैज्ञानिक पद्धतियों का उपयोग करते हुए अनाज के बायो-फोर्टिफिकेशन (जैव-सुदृढ़ीकरण) पर किए गए कार्य की भी सराहना की।

लीफ कलर चार्ट आधारित अनुप्रयोग के माध्यम से धान में नाइट्रोजन के उपयोग को कम करके, जो चावल में 40 से 60 किलोग्राम नाईट्रोजन/हेक्टेयर की बचत करता है सहित पौधों के फेनोटाइपिंग (समलक्षणी) के लिए ड्रोन तकनीक का उपयोग और धान में हर्बिसाइड प्रतिरोध का भी प्रदर्शन किया गया। श्री चौधरी ने 50 प्रतिशत नाइट्रोजन के उपयोग में कटौती के लिए ड्रोन प्रौद्योगिकी को लोकप्रिय बनाने का सुझाव दिया। मंत्री ने भविष्य के प्रजनन कार्यक्रमों में शामिल करने के लिए जैविक और अजैविक तनाव सहिष्णुता और अन्य गुणवत्ता लक्षणों की पहचान के लिए धान की 10,000 भू-प्रजाति पर परीक्षण का भी प्रदर्शन किया।

संस्थान द्वारा किए गए बहु-उद्यम, बहु-स्तरीय तकनीकी प्रगति की सराहना करते हुए, श्री चौधरी ने सीमित जल और सीमित संसाधन परिदृश्यों पर अनुसंधान कार्य को आगे बढ़ाने का आग्रह किया।

मंत्री ने विभिन्न स्कूल समन्वयकों और भा.कृ.अनु.प.-भा.कृ.अनु.सं., नई दिल्ली के विभागाध्यक्षों की उपस्थिति में निदेशक, भा.कृ.अनु.प.-भा.कृ.अनु.सं. के साथ एक समीक्षा बैठक भी की। श्री चौधरी ने संस्थान के यूट्यूब चैनल पर हाल ही में शुरू किए गए ‘पूसा समाचार’ सहित भा.कृ.अनु.प.-भा.कृ.अनु.सं. की नई पहलों की प्रशंसा की। उन्होंने किसानों से पूसा समाचर का अधिक से अधिक लाभ उठाने का भी आग्रह किया। 

(स्त्रोत: भा.कृ.अनु.प.-भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली)