“8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” पर आयुष मंत्रालय द्वारा चिन्हित भारत के 75 प्रतिष्ठित स्थलों में राजस्थान के कुम्भलगढ़ किले को कार्यक्रम के आयोजन हेतु चुना गया

21 जून, 2022, कुम्भलगढ़, राजस्थान

8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आयुष मंत्रालय द्वारा चिन्हित किये गए पुरे भारत देश में 75 प्रतिष्ठित स्थलों में राजस्थान के कुम्भलगढ़ किले को कार्यक्रम के आयोजन हेतु चुना गया था| इस कार्यक्रम का आयोजन 21 जून, 2022 को किया गया।

“8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” पर आयुष मंत्रालय द्वारा चिन्हित भारत के 75 प्रतिष्ठित स्थलों में राजस्थान के कुम्भलगढ़ किले को कार्यक्रम के आयोजन हेतु चुना गया  “8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” पर आयुष मंत्रालय द्वारा चिन्हित भारत के 75 प्रतिष्ठित स्थलों में राजस्थान के कुम्भलगढ़ किले को कार्यक्रम के आयोजन हेतु चुना गया

मुख्य अतिथि, श्री कैलाश चौधरी, माननीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री ने 8वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को, इसकी थीम 'मानवता के लिए योग' को बढ़ावा देने तथा इसे वैश्विक स्तर पर ब्रांड इंडिया पर केंद्रित करने पर जोर दिया। मंत्री ने कार्यक्रम के दौरान मंच पर योग प्रदर्शन करके सभी प्रतिभागियों को सामान्य योग प्रोटोकॉल के रूप में योग आसन करने के लिए प्रेरित किया।

“8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” पर आयुष मंत्रालय द्वारा चिन्हित भारत के 75 प्रतिष्ठित स्थलों में राजस्थान के कुम्भलगढ़ किले को कार्यक्रम के आयोजन हेतु चुना गया

इस कार्यक्रम को आयोजित करने के लिए भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद् को जिम्मेदारी दी गयी, जिसके लिए उप-सचिव श्री नरेश कुमार शर्मा को नोडल अधिकारी एवं भाकृअनुप-केन्द्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान, जोधपुर, राजस्थान को प्रबंधन की जिम्मेदारी दी गयी|

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर, समयानुसार, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का मैसूर से लाइव टेलीकास्ट सन्देश भी यहां प्रसारित किया गया।

इसके पहले, डॉ. ओमप्रकाश यादव, संस्थान के निदेशक द्वारा विशिष्ट अतिथियों तथा गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया गया।

श्री सुरेन्द्र सिंह राठौर, स्थानीय विधायक के साथ-साथ जिला प्रमुख, प्रधान, उप-प्रधान, स्थानीय प्रशासन को भी समारोह में आमंत्रित किया गया|

कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ एवं सभी प्रतिभागियों को अल्पाहार उपलब्ध कराया गया|

कार्यक्रम में स्थानीय निवासी, स्थानीय जनप्रतिनिधि, स्थानीय प्रशासन,  एनएसएस, स्काउट, बी.एस.एफ. और सी.आर.पी.एफ. की सक्रिय भागीदारी के साथ कार्यक्रम में 683  प्रतिभागियों ने उपस्थिति दर्ज कराई|

(स्रोत: भाकृअनुप केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान, जोधपुर, राजस्थान)